क्षणिकाएं

आज फिर दिल ने उन्हें याद किया
मेरी बर्बादियों को और भी बर्बाद किया
ग़म जो थे दिल के किसी कोने में दफ्न
उनके तोहफों ने फिर उनका आगाज़ किया

Comments

  1. ji tohafe dekhkar purani yade taja ho jati hai
    sundar bhav mayi chanika...

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

चुप हूँ पर

जोश

ग़मों की काली छाया