इस साईट में शामिल हों

Thursday, 15 December 2011

क्षणिकाएं

आज फिर दिल ने उन्हें याद किया
मेरी बर्बादियों को और भी बर्बाद किया
ग़म जो थे दिल के किसी कोने में दफ्न
उनके तोहफों ने फिर उनका आगाज़ किया

1 comment:

  1. ji tohafe dekhkar purani yade taja ho jati hai
    sundar bhav mayi chanika...

    ReplyDelete