Posts

Showing posts from January, 2012

जोश

अन्जान राह पे चलते चलते
थक गये हैं अब कदम
हो गयी है इन्तहां
दुखने लगे हैं अब जखम
करता रहा ज़ो जी हुजूरी
और गिराहर बार हूँ
हिम्मत तो देखो
इक बार फिर लड़ने को मै तैयार हूँ

चुप हूँ पर

चुप हूँ पर मेरी चुप्पी को ख़ामोश न समझो
मै तो इशारों से ही तुझे राख़ बना सकता हूँ

ख़ुशनसीब है तू जो नाखुदा हमारा एक है
कश्ती तो मैं तूफाँ में भी चला सकता हूँ.

शुक्र कर ख़ुदा का जो हम साथ हैं इस राह पर
तेरे ग़ुरूर को हर राह पे झुका सकता हूँइंसान है इंसानियत को कुछ तो इज्ज़त दे
तेरी हैवानियतको हर लफ्ज़ से मिटा सकता हूँ