जोश

अन्जान राह पे चलते चलते
थक गये हैं अब कदम

हो गयी है इन्तहां

दुखने लगे हैं अब जखम

करता रहा ज़ो जी हुजूरी

और गिरा
हर बार हूँ
हिम्मत तो देखो

इक बार फिर लड़ने को मै तैयार हूँ

Comments

  1. लड़ने को तैयार होना आपके जोश और उत्साह को दर्शाता है ....और जीवन का मूल मन्त्र भी यही है कि किसी भी परिस्थिति में अपने उत्साह को कम न होने दिया जाए .........!

    ReplyDelete
  2. अपने इस उत्साह और हौसले को हमेशा कायम रखिये
    बेहतरीन रचना है...

    ReplyDelete
  3. नई हिम्मत ,नए हौंसले ...ये ही तो जिंदगी है ...जो किसी के लिए नहीं रूकती

    ReplyDelete
  4. जो हिम्मत रखते हैं ,उनकी मदद खुदा करते हैं..
    kalamdaan.blogspot.com

    ReplyDelete
  5. आपका प्रयास सराहनीय है ! बधाई !
    आप कविता के बुनघत पर ध्यान दें !

    ReplyDelete
  6. यह जोश बना रहे ... भावों का अच्छा प्रस्तुतीकरण

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब ,
    प्रभावशाली अभिव्यक्ति !
    शुभकामनायें आपको ..

    ReplyDelete
  8. जोशीले भाव.. बहुत सुन्दर.. मेरे ब्लांमें आने के लिए आभार...

    ReplyDelete
  9. सुंदर प्रभाव छोडती रचना....!

    ReplyDelete
  10. girna aur fir uthna... yahi to jeevan hai:)

    ReplyDelete
  11. waah ! kYA BAAT HAI....AAKHIR ...HIMMATE MARDA..MARDE KHUDA.

    ReplyDelete
  12. himmat n ho to duniya kitna jeene deti hai..
    sundar sakratmak sandesh deti rachna..

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर रचना,बेहतरीन प्रस्तुति new post...वाह रे मंहगाई...

    ReplyDelete
  14. वाह ! , क्या बात है कौशल जी....सुन्दर ....हिम्मते मर्द, मददे खुदा....

    --अन्जान का सही ...अनजान है ...
    ---जखम = ज़ख्म

    ReplyDelete
  15. हौसला कांयम रखे,मंजिल जरूर मिलेगी,...बेहतरीन पोस्ट
    फालोवर बन गया हूँ आप भी बने खुशी होगी,..

    WELCOME TO MY NEW POST ...काव्यान्जलि ...होली में...

    ReplyDelete
  16. Nice post, things explained in details. Thank You.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

चुप हूँ पर

ग़मों की काली छाया