तू भी कल प्यार में हो

मत उठा मेरे प्यार पे ऊँगली ऐ शाहिद 
मत करा  दूर दो रूंहों को अलग ऐ शाहिद 
हम भी अल्लाह के बन्दे हैं कुछ तो डर ऐ शाहिद 
कहीं ऐसा न हो कि, तू भी कल प्यार में हो और बन जाऊं मैं शाहिद

Comments

  1. MUBARAK HO.. APKI PAHLI POST.. KHUB NAAM KAMAO BLOG KI DUNIYA MEN...

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

चुप हूँ पर

जोश

ग़मों की काली छाया